दिल्‍ली के प्रसिद्ध पर्यटक स्‍थल – delhi me ghumne ki jagah

दिल्‍ली के प्रसिद्ध पर्यटक स्‍थल -delhi me ghumne ki jagah : दिल्‍ली शहर भारत की राजधानी ही नहीं बल्कि भारत का गौरव रहा है जिसने दिल्‍ली सल्‍तनत, मुगल वंश और फिर अंग्रेजों से स्‍वतंत्रता की लडाई का इतिहास देखा है। इस दिल्‍ली शहर की स्‍थापना तोमर वंश राजा अनंगपाल ने लगभग एक हजार ईस्‍वी के पास की थी।

delhi tourism photo

अगर हम दिल्‍ली के पर्यटक स्‍थल की बात करें तो आज पूरी दुनिया से हर साल लाखों लोग दिल्‍ली घू‍मने के लिए आते हैं। यहॉं की स्‍थापत्‍य कला, वास्‍तुकला और आधुनिक व प्राचीन मन्दिरों को देखने के लिए काफी बडी संख्‍या में लोग पहुँचते हैं। इसके अलावा तरह-तरह भारतीय व्‍यंजनों के लिए भी जाना जाता है।

दिल्‍ली के प्रसिद्ध पर्यटक स्‍थल – delhi me ghumne ki jagah

कुतुब मीनार दिल्‍ली – qutub minar in hindi

qutub minar delhi photo

कुतुब मीनार का निर्माण दिल्‍ली सल्‍तनत के प्रथम सुल्‍तान क़ुतुब-उद-दीन ऐबक ने महरौली में करवाया था। यह मीनार लाल पत्‍थरों तथा संगमरमर पत्‍थरों से बनाई गई है इसके साथ ही यह कुतुब मीनार भारत की सबसे ऊँची मीनार है जिसकी ऊँचाई 72.5 मी है।

इस मीनार के पूर्ण होने से पहले ही क़ुतुब-उद-दीन ऐबक की पोलो खेलते समय घोडे से गिरकर मौत हो गई थी इसलिए उनकी मौत के बाद दिल्‍ली सल्‍तनत के दूसरे शासक इल्‍तुतमिश ने इसे पूरा करवाया था। इल्‍तुतमिश के बाद फिरोजशाह तुगलक ने भी इस मीनार की मरम्‍मत करवाई थी।

इस मीनार की ठीक बायीं तरफ अलाई दरवाजा बना हुआ है जिसका निर्माण अला-उत-दीन खिलजी ने सन् 1311 में करवाया था जिसका उपयोग कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद के प्रवेशद्वार के रूप में किया जाता है इस अलाई दरवाजे की नक्‍काशी देखने लायक है। इसके अलावा मीनार से थोडा आगे दाईं तरफ एक लौह स्‍तम्‍भ स्थित है यह लौह स्‍तम्‍भ चन्द्रगुप्त द्वितीय विक्रमादित्य के समय का है जिसका निर्माण लगभग 400 ई में हुआ था यह स्‍तम्‍भ आज भी वैसे ही खडा है इसमें किसी प्रकार का ह्रास नहीं हुआ है।

हुमायूँ का मकबरा – humayun’s tomb in hindi

humayun's tomb delhi photo

हुमायूँ मुगल बादशाह बाबर के पुत्र तथा अकबर के पिता थे हुमायूँ की म़त्‍यु के बाद उनकी पत्‍नी हामिदा बानो बेगम ने दिल्‍ली में एक बहुत ही खूबसूरत मकबरे का निर्माण करवाया था। इस मकबरे को यूनेस्को ने 1993 में विश्‍व धरोहर में शामिल कर लिया।

यह मकबरा भारत के सबसे खूबसूरत मकबरों में से एक है अगर इसे भारत का दूसरा ताजमहल कहें तो गलत न होगा। इस मकबरे के सामने एक बडा फव्‍वारा तथा मकबरे के चारो ओर बगीचा है। इसके अलावा इस मकबरे के ठीक सामने एक बडा प्रवेश द्वार है जहॉं पर मुगल साम्राज्‍य की वस्‍तुऍं देखने को मिलेंगी।

यह मकबरा दिल्‍ली के पुराने के पास ही मौजूद है जिसके खुलने का समय सुबह 6 बजे से लेकर शाम के 6 बजे तक खुला रहता है और टिकेट की कीमत 30 रूपये है। इस मकबरे में हुमायूँ की कब्र के अलावॉं उनकी पत्‍नी हमीदा बानो, दारा शिकोह, जहांदार शाह, आलमगीर द्वितीय तथा कई अन्‍य मुगल शाशकों की कब्रें भी मौजूद हैं।

दिल्‍ली का लाल किला – delhi me ghumne ki jagah red fort hindi me

red fort delhi photo

मध्यकालीन भारत में शाहजहॉं का काल स्‍थापत्‍यकला और वास्‍‍तुकला के लिए श्‍वर्णकाल माना जाता है। इस लाल किले का निर्माण भी शाहजहां ने ही करवाया था और 1638 में अपनी राजधानी आगरा से दिल्‍ली स्‍थानान्‍तरण कर ली थी। यह लाल किला बहुत ही भव्‍य और बहुत ही आकर्षक है इस किले के अन्‍दर दिवान-ए-आम, दिवान-ए-खास, मोती महल और रंग महल बहुत ही आकर्षक लगते हैं।

दिल्‍ली का लाल किला ऐतिहासिक दृष्टि से बहुत ही महत्‍वपूर्ण है इस किले का भारत राष्‍ट्र का गौरव माना जाता है इसी लाल किले में प्रत्‍येक वर्ष भारत के प्रधानमंत्री स्‍वतंत्रता दिवस के अवसर पर झण्‍डा फहराते हैं और राष्‍ट्र को सम्‍बोधित करते हैं। इस किले को यूनेस्‍को ने 2007 में विश्‍व धरोहर में शामिल कर लिया था यह किला पुरानी दिल्‍ली में रेलवे स्‍टेशन के पास ही स्थित है पर्यटक इस किले में सुबह 9:30  से लेकर शाम के 4:30  के बीच जा सकते है।

इंडिया गेट दिल्‍ली – india gate in hindi

india gate delhi photo

वर्तमान समय में दिल्‍ली घूमने आये सैलानियों के लिए इंडिया गेट सबसे पसंदीदा स्‍थान है इसके अलावा दिल्‍ली वासियों के लिए भी यह एक पिकनिक स्‍पॉट है। इस स्‍मारक का निर्माण प्रथम विश्‍व युद्ध और तीसरे एंग्लो-अफगान युद्ध में वीरगति को प्राप्‍त हुए सैनिकों की याद बनवाया गया था तथा इसमें 13,300 सैनिकों के नाम लिखे देखने को मिलते हैं। यह युद्ध स्‍मारक 42 मीटर लंबा है जिसे ब्रिटिश वाइसरॉय लार्ड इरविन ने 1931 में बनवाया था। 1971 के भारत-पाक युद्ध में सहीद हुए भारतीय जवानों को श्रद्धांजली प्रदान करती इंडिया गेट के ठीक सामने “अमर जवान ज्योति” को भी देखा जा सकता है। भारतीय गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को हर वर्ष परेड का आयोजन किया जाता है।

इसे भी पढें जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटक स्‍थल 

जामा मस्जिद दिल्ली – jama masjid delhi in hindi

jama masjid delhi photo

दिल्‍ली की जामा मस्जिद देश की सबसे बडी मस्जिद है जिसमे एक साथ 25 हजार लोग नमाज अदा कर सकते हैं। इस मस्जिद का निर्माण मुगल बादशाल शाहजहां ने करवाया था जो आज पुरानी दिल्‍ली में लाल किले के पास स्थित है।

स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर दिल्ली – Swaminarayan Akshardham temple delhi in hindi

Swaminarayan Akshardham delhi photo

दिल्‍ली में यमुना नदी के किनारे भगवान स्‍वामीनाराण को समर्पित एक बहुत ही विशाल और बहुत ही भव्‍य मन्दिर का निर्माण 2005 में किया गया था। यह मन्दिर स्‍थापत्‍य कला और वास्‍तुकला की दृष्टि से बहुत ही खूबसूरत है जो दिल्‍ली आये हुए सैलानियेां को अपनी ओर आकर्षित करता है। यह अक्षरधाम मन्दिर विश्‍व के सबसे बडे हिन्‍दू मन्दिर होने के कारण गिनजी बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया गया है।

जंतर मंतर  दिल्ली – Jantar Mantar delhi in hindi

Jantar Mantar delhi photo

जयपुर, उज्जैन, मथुरा और वाराणसी की खगोलीय वैधशालाओं की तरह दिल्‍ली का यह जंतर-मंतर एक खगोलीय वैधशाला है जिसमें समय, ग्रह, नक्षत्र और खगोलीय पिण्‍डों के अध्‍ययन के लिए किया गया था। इस वैधशाला का निर्माण महाराजा जयसिंह द्वितीय ने 1724 में करवाया था।

लोटस टेम्पल दिल्ली – delhi me ghumne ki jagah lotus temple hindi me

सफेद संगमरमर से बना हुआ यह लोटस टेम्‍पल या कमल मन्दिर नई दिल्‍ली के नेहरू प्‍लेस में स्थित है। यह टेम्‍पल चारो ओर से तलाब से घिरा हुआ है और बीच में कमल की आकृति का मन्दिर बना हुआ है जिसमे किसी देवी-देवता की प्रतिमा नहीं बनी हुई है जिसके कारण यह सर्वशक्तिमान की एकता का प्रचार करता है। इस लोटस टेम्‍पल को देखने लिए दूर-दूर सैलानी आते हैं इसलिए जब आप दिल्‍ली जायें तो यहॉं जाना बिल्‍कुल भी ना भूलें। यह थे।

यह थे दिल्‍ली के प्रसिद्ध पर्यटक स्‍थल आशा करता हूँ कि आप सभी को यह जानकारी अच्‍छी लगी होगी धन्‍यवाद।

Leave a Comment